- चम्पा के पेड़ बड़े सुन्दर लगते है. यह गमले में
भी बहुत अच्छा लगता है.
- चम्पा शीतल प्रकृति का और ह्रदय के
लिए लाभकारी होता है.इसे सूंघने से दिल
और दिमाग शक्ति शाली बनता है.
- चम्पा भूख को रोकता है.
- हाथ-पैरों पर चम्पा के फूलों का तेल
बनाकर मालिश करने से ऐंठन वाला दर्द
ठीक हो जाता है।
- चम्पा के फूलों को तिल के तेल में पीसकर
सिर पर बांध लें और पलकों पर लेप करें। इससे
आंखों का दर्द दूर हो जाता है।
- चम्पा के फूलों को पीसकर
पानी या निम्बू के रस के साथ लगाने से
चेहरा दाग धब्बे रहित और चमकदार
हो जाता है.
- चम्पा के फूलों को पीसकर शरीर में लेप
करने से जलन में आराम मिलता है.
- 10 मिलीलीटर चम्पा के पत्तों का रस
लेकर 20 ग्राम शहद के साथ मिलाकर सुबह
और शाम सेवन करने से पेट के दर्द में लाभ
होता है।
- चम्पा की जड़ का काढ़ा बनाकर पीने से
दस्त आकर कब्ज की शिकायत मिट जाती है।
- पैर के दाद पर चम्पा के फूलों को पीसकर
लगाने से लाभ होता है।
- चम्पा की जड़ की छाल को दही में पीसकर
फोड़ों पर लगाने से उनकी सूजन ठीक
हो जाती है।
- चम्पा के फूलों को पीसकर प्राप्त हुए रस
को निकालकर 3 मिलीलीटर की मात्रा में
लेकर शहद के साथ चाटने से आंतों के कीड़े
समाप्त हो जाते हैं।
- चम्पा के 20 मिलीलीटर ताजे पत्तों के
रस को पीने से पेट के कीड़े मर जाते हैं और
पेट के दर्द में लाभ होता है।
- चम्पा के फूलों का काढ़ा बनाकर पीने से
आमाशय का घाव एवं दर्द ठीक
हो जाता है।
- 3 ग्राम चम्पा की छाल के चूर्ण को दिन
में 2 बार पानी के साथ खाने से दूषित रक्त
(खून की खराबी) साफ हो जाता है।
- गठिया के रोगी को चम्पा के फूलों से बने
हुए तेल से मालिश करने से लाभ मिलता है।
- चम्पा की जड़ का चूर्ण 600 मिलीग्राम
से 1.80 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम देने
से रुकी हुई माहवारी जारी हो जाती है।
- शरीर की शक्ति को बढ़ाने के लिए
चम्पा के फूलों का चूर्ण बनाकर इस चूर्ण में
शहद मिलाकर खाने से शरीर
शक्तिशाली बन जाता है।


Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email