● बाल झड़ना एक ऐसी समस्या है जो कब आम से खास हो जाती है, यह समझने का वक्त ही नहीं मिलता। लेकिन इसकी रोकथाम के लिये इनके झड़ने के कारणों की सही जानकारी जरूरी होनी चाहिये।
1) बाल झड़ने की कुछ खास वजहें
अधिक बाल झड़ना चिंता का विषय है और बेहद डरावना भी। खासतौर पर तब, जबकि इन दिनों रोज कंघे में फंसे बालों का गुच्छा बड़ा होता जा रहा हो। देखिये बाल झड़ना एक ऐसी समस्या है जो कब आम से खास हो जाती है, यह समझने का वक्त ही नहीं मिलता। लेकिन इसकी रोकथाम के लिये जरूरी होता है इसका झड़ने के कारणों की सही जानकारी। कई बार बाल झड़ने की वजहें अनुवांशिक से लेकर मौसम से संबंधित तक हो सकती हैं लेकिन कई बार इसके पीछे कोई गंभीर रोग भी कारण हो सकता है। तो चलिये आज जानते हैं बालों के झड़ने की कुछ ऐसी ही बड़ी वजहें।

2) थायरॉइड के कारण
बालों का झड़ना थॉयरॉइड बढ़ने का बड़ा लक्षण होता है। दरअसल थायरॉइड ग्लैंड के अधिक सक्रिय होने या कम सक्रिय होने का संबंध बालों के झड़ने से भी है, पर अच्छी बात तो यह है कि थायरॉइड के उपचार के साथ ही बालों के झड़ने की समस्या अपने आप कम हो जाती है।
3) परिवारिक इतिहास के कारण
जहां तक पारिवारिक इतिहास की बात है, तो इसमें ज्यादा कुछ नहीं किया जा सकता है। लेकि उचित आहार और बेहतर लाइफस्टाइल का पालन कर बाल झड़ने की संभावना को कम जरूर किया जा सकता है। इसके अलावा उन चीजों से खुद को बचा सकते हैं, जो बाल झड़ने का कारण बन सकती हैं।
4) टायफाइड व वायरल संक्रमण के कारण
टायफाइड व वायरल संक्रमण के कारण भी बाल झड़ना तेज हो सकता है। जी हां, बहुत लंबे समय तक तेज बुखार, टायफाइड या वायरल संक्रमण होने पर भी बाल ज्यादा झड़ते हैं। हालांकि यह कोई स्थायी समस्या नहीं है और रोगों के उपचार के साथ ही इसे ठीक किया जा सकता है।
5) एनेस्थिसिया या किसी सर्जरी की वजह से
देखा गया है कि कई बार किसी बड़ी सर्जरी के कुछ महीनों बाद तक भी बालों का झड़ना कम नहीं होता है। विशेषज्ञ बताते हैं कि इसकी वजह सर्जरी और एनेस्थिसिया का प्रभाव और रिकवरी में देरी आदि हो सकते हैं।
6) आपके हेयर स्टाइल उपकरण
नहाने के बाद लोग अमूमन ही बालों को सुखाने के लिए हेयर ड्रायर का इसेत्माल करते हैं। हालांकि कई अध्ययनों से पता चला है कि रोज़ाना बालों को सुखने के लिये ड्रायर का इस्तेमाल करना बाल झड़ने का कारण बन सकता है। इसके अलावा जल्दी-जल्दी अपने बालों को सीधा या घुंघरेला बनाने के लिए प्रयोग में लाये जाने वाले उपकरण या ट्रीटमेंट भी बालों के झड़ने की गति को तेज़ करते हैं।
7) गर्भावस्था या दवाएं
कुछ विशेष प्रकार की दवाएं, जैसे खून पतला करने के उपचार के दौरान ली जाने वाली दवाएं, विटामिन ए सप्लीमेंट, गठिया, दिल के रोगों से जुड़ी दवाएं, बीपी की गोलियां, कंट्रासेप्टिव दवाएं या फिर नींद की दवाओं के सेवन से भी बालों का झड़ना बढ़ सकता है। वहीं गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजन नामक हार्मोन का संतुलन बिगड़ जाता है जिसकी कारण भी बाल तेजी से झड़ते हैं। हालांकि खान-पान में सुधार कर इसे रोका जा सकता है।
8) फंगल संक्रमण या अधिक तनाव
कई बार सिर की त्वचा पर फंगल संक्रमण हो जाने पर भी बाल झड़ने लगते हैं। इसके बचाने के लिए उपचार के साथ-साथ हाइजीन का ध्यान रखना बेहद जरूरी होता है। वहीं दूसरी ओर ज्यादातर लोगों में भारी तनाव की वजह से भी उनके बाल झड़ते हैं।


Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email